Wednesday, February 1, 2023
0 0
Homeधर्म और पढ़ेंKarma Yoga is our favor only in charity

Karma Yoga is our favor only in charity

Read Time:21 Minute, 17 Second

Karma Yoga is our favor only in charity Swami Vivekananda Here Swami Vivekananda has discussed about workers in detail with his disciples, here we are publishing some part of this discussion in answer to some questions asked by his disciples Swami Vivekananda has told about the benefits of Karma Yoga, explained the importance of Karma Yoga

I also want to tell you in brief that what we call hot in India and what is another aspect of it, each religion has 3 divisions, first philosophical, second mythological and third ritualistic philosophical part, so actually the essence of each religion.

Mythological part is the interpretation of this philosophical part, in which more or less fictional biographies of great men and stories related to supernatural subjects and stories have been tried by the village to explain this philosophy in the best form.

In fact, rituals are a beautiful form of philosophy. Rituals are actions, it is needed in every religion, because unless we are very advanced in spiritual life, we cannot understand subtle spirituality. It is easy to assume that he can understand anything.

but when he tries to put it into practice, he realizes that it is very difficult to understand the subtle expressions properly and color them, that is why symbols are especially helpful. there are subtle themes through symbols We cannot give up the system of understanding the symbols in any way. Symbols have been used in every religion since very ancient times. From a point of view,

if it is said that we cannot think about anything without symbols, then it is right. Words are also the symbol of our thought, from another point of view it can be said that the world can be seen as a symbol, the whole world is a symbol and behind it God resides in the form of the basic element, this type of symbol is generated only by man.

It has not been done and it is not just that some followers of one religion sat together and just imagined some symbols. Some special symbols are always related to some specific feelings in the mind.

Some symbols are found everywhere. Since before birth, even before the appearance of the Vedas, what kind of human activities This type of history exists even before indulging and evidence of its existence is found in the furnishing castes as well. Was prevalent in the same way growth is considered an excellent symbol in the whole world.

Apart from this, the most popular symbol in the whole world has been the Swastik symbol. At one time there was a belief that he took it along with him to the whole world, but it is known that Buddhism centuries ago it was propagated among many nations was found in the country of ancient Egypt what does all this reveal

Were the switches not scholarship, there must have been some special reason for them and there must have been some natural connection between them and the human mind. Similarly, language is also not an artificial thing. It is not that some people sitting together decided that some Special lack should be expressed by some special words and just the language has not originated. Language has not originated in this way. Words, symbols or alphabets can be used to express feelings, cannot be reached in the same way.

There is no need for Nibhaya Damru and even a child of yesterday says this thing, but it can be easily seen that those who go to the temple and worship,

I am better in many respects than those who do not do so. Different religions differ with the specific temple rituals and other fees associated with Riya Kal, they awaken those words in the mind of the Bawaris that this temple ritual etc.

is in the form of symbols, therefore the rituals and symbols are completely blown away. Study and practice of all these subjects is a part of Karma Yoga till nature. There are many other aspects of this Karma Yoga. What can happen,

every religion believes in the power of the word, even in some religions, it is the belief that the whole creation has come out of the word, the word is the shape of God’s resolution and Yogeshwar had resolved and desired before the creation of the universe. That’s why creation has emerged from the word itself.

This water later rises in our nerves in the uproar of life.

As we grow older and stumble around the world, which keeps on increasing in us, as a result of being indifferent to all the happenings around us that constantly attract our attention, there is no lesson to be learned from them.

We can do it, but sometimes it also happens that the natural instinct of man prevails and we start trying to know the secret of ordinary worldly events and get surprised at them, thus being surprised is the first step to gain science.

Even leaving aside the philosophical and religious importance of the word, we see that the word copy has a special place in our life. You touch someone and it creates an effect in your mind. You can’t stop it.

Come to think of it, what can be more amazing than this. One man calls another a fool and that’s all. and clenching his fist One woman is a fetus, another woman comes and says some words of consolation to her.

It seems that there is so much power in one word, just as we get the introduction of word power, in the same way in ordinary life too, we are using this power day and night, without doing any special thought and research in the darkness of this power.

Our duty towards the beginning means helping others, doing good to the world, now the question arises that why should we do good to the world, actually the point is that we do good to the world from above,

but in reality we do good to ourselves. We should always try to do good to the world and this should be our supreme aim in doing work but if we look carefully it will appear that the world does not need our help at all.

The world was not created because we or you came and helped it Help I once read a sermon and it went like this This beautiful world is great because we get time and opportunity to help others. On the face of it the sentiment is really beautiful but to say that the world needs our help It is true that there is a lot of suffering in the world and helping people directly is the best thing we can do but later on we will see that helping others means helping yourself.

I remember a Once upon a time when I was little I had some white rats send They were kept in a small box and were given exemptions for them when they wanted to cross they were there and the poor rats could never get out. It must happen that we get moral education, the world is neither good nor bad, the only thing is that every man creates his own world for himself.

Happiness is all about sadness, we have experienced it hundreds of times in our life. Young people are optimistic and pessimistic young man has his whole life ahead of him, but the only complaint that remains is that his time has passed, no matter how incomplete it is, it keeps stirring in his heart.

Today we do not have the power to fulfill but we have both the mood according to our mental state this world seems good or bad to us, good or bad fire itself is not good or bad then we say how beautiful it is but when our If finger gets burnt we blame him but still we are like ourselves I use it to become a petitioner. Same is the case with this world.

The world is self-sufficient. Being complete means that it has the capacity to fulfill all its purposes. Will go on we don’t need to work hard to help him but still we should always keep doing charity if we always keep in mind that helping others is a good luck then desire to do charity can be the best motivation

||आप लोगों को संक्षेप में यह भी बता देना चाहता हूं ||

कि भारतवर्ष में जिसे हम गर्म कहते हैं उसका एक दूसरा पहलू और कौन सा है प्रत्येक धर्म में 3 विभाग होते हैं प्रथम दार्शनिक दूसरा पौराणिक और तीसरा कर्मकांड दार्शनिक भाग तो असल में प्रत्येक धर्म का सार है पौराणिक भाग इस दार्शनिक भाग की व्याख्या स्वरूप है

उसमें महापुरुषों की कम या अधिक काल्पनिक जीवनी तथा आलौकिक विषय संबंधी कथा एवं आख्या गांव द्वारा इसी दर्शन को उत्तम रूप में समझाने की चेष्टा की गई है कर्मकांड इस दर्शन का ही और भी स्थूल रूप है जिसमें वह सर्वसाधारण के समझ में आ सके वास्तव में अनुष्ठान दर्शन का एक सुंदर रूप है अनुष्ठान ही कर्म है प्रत्येक धर्म में इसकी आवश्यकता है

जब तक हम आध्यात्मिक जीवन में बहुत उन्नत न हो जाए तब तक सूक्ष्म आध्यात्मिकता तो समझ ही नहीं सकते मनुष्य को अपनी यह मान लेना सरल है कि वह कोई भी बात समझ सकता है परंतु उसे अमल में लाने की चेष्टा करता है तो उसे मालूम होता है कि सूक्ष्म भावों को ठीक-ठीक समझना तथा उन्हें रंगम करना बहुत ही कठिन है इसीलिए तो प्रतीक विशेष रूप से सहायक होते हैं

प्रतीक द्वारा सूक्ष्म विषयों को समझने की जो प्रणाली है उसे हम किसी प्रकार त्याग नहीं सकते अत्यंत प्राचीन समय से ही प्रतीकों का प्रयोग प्रत्येक धर्म में होता रहा है एक दृष्टि से यदि कहा जाए कि हम प्रतीक के बिना किसी बात को सोच ही नहीं सकते तो ठीक ही है शब्द भी तो हमारे विचार के प्रतीक ही हैं दूसरी दृष्टि से कहा जा सकता है

कि संसार की प्रतीक के रूप में देखी जा सकती है सारा संसार ही प्रतीक है और उसके पीछे मूल तत्व रूप में ईश्वर विराजमान है इस प्रकार का प्रतीक केवल मनुष्य द्वारा उत्पन्न किया हुआ ही नहीं है और ना ऐसी ही बात है

एक धर्म के कुछ अनुयाई एक साथ बैठ गए और बस उन्होंने कुछ प्रतीकों की कल्पना कर डाली धर्म के प्रति की उत्पत्ति स्वाभाविक रूप से होती है नहीं तो ऐसा क्यों है कि प्राय सभी मनुष्य के मन में कुछ विशेष प्रतीक कुछ विशिष्ट भावों से सदा संबंध रहते हैं कुछ प्रतीक तो सभी जगह पाए जाते हैं

तुम में से अनेकों की यह धारणा है कि क्रॉस का चिन्ह सर्वप्रथम ईसाई धर्म के साथ प्रचलित हुआ परंतु वास्तव में तो वो ईसाई धर्म के बहुत पहले से ही जन्म से पहले वेदों के आविर्भाव के भी पहले यहां तक कि मानवीय कार्यकलापों का किसी प्रकार का इतिहास लिप्त होने के भी पहले से विद्यमान है

फर्निशिंग जातियों में भी इसकी मौजूदगी का प्रमाण मिलता है प्रायः प्रत्येक जाति में इसका अस्तित्व था इतना ही नहीं बल्कि ऐसा भी प्रतीत होता है कि क्रॉस पर लटके हुए महापुरुष का प्रतीक प्रत्येक जाति में प्रचलित था इसी प्रकार सारे संसार में वृद्धि एक उत्कृष्ट प्रतीक माना गया है

इसके अतिरिक्त सारे संसार में सबसे अधिक प्रचलित स्वास्तिक प्रतीक रहा है एक समय ऐसी धारणा थी कि वह इसे अपने साथ-साथ सारे संसार में ले गए परंतु पता चलता है कि बौद्ध धर्म के सदियों पहले कई जातियों में इसका प्रचार था प्राचीन मिस्र देश में पाया जाता था इस सब से क्या प्रकट होता है

इनका कोई न कोई विशेष कारण अवश्य रहा होगा उनमें तथा मानवीय मन में कोई स्वाभाविक संबंध रहा होगा इसी प्रकार भाषा भी कोई कृत्रिम वस्तु नहीं है ऐसी बात नहीं है कि कुछ लोगों ने एक साथ बैठकर यह तय कर लिया कि कुछ विशेष अभाव कुछ विशेष शब्दों द्वारा प्रकट किए जाएं और बस भाषा की उत्पत्ति हो गई नहीं भाषा की उत्पत्ति इस प्रकार नहीं हुई कोई भी भाव अपने आनुषंगिक शब्द बिना नहीं रह सकता और ना कोई शब्द ही अपने आनुषंगिक भाव बिना रह सकता है शब्द भाव सौभाग्य है भावों को प्रकट करने के लिए शब्द प्रतीक अथवा वर्ण प्रति किसी का भी व्यवहार किया जा सकता है इसी प्रकार के साथ नहीं पहुंचा सकता

निभाया डमरु की कोई आवश्यकता नहीं और यह बात तो कल का एक बालक भी कहा करता है परंतु सरलता पूर्वक यह कोई भी देख सकता है कि जो लोग मंदिर में जा कर पूजा करते हैं मैं उन लोगों की अपेक्षा जो ऐसा नहीं करते कई बातों में कहीं भिन्न होते हैं विभिन्न धर्मों के साथ जो विशिष्ट मंदिर अनुष्ठान और अन्य शुल्क रिया कल आप जुड़े हुए हैं वह ढूंढ बावरियों के मन में उन शब्दों को जागृत कर देते हैं

जिनकी कि यह मंदिर अनुष्ठान आदि झूल प्रतीक स्वरूप है अतएव अनुष्ठानों एवं प्रतीकों को एकदम उड़ा देना नहीं है इन सब विषयों का अध्ययन एवं अभ्यास स्वभाव तक कर्मयोग का ही एक अंग है इस कर्म योग के और भी कई पहलू हैं इनमें से एक है भाव तथा शब्द के संबंध को जानना एवं यह भी ज्ञान प्राप्त करना कि शब्द शक्ति से क्या-क्या हो सकता है प्रत्येक धर्म शब्द की शक्ति को मानता है यहां तक कि किसी किसी धर्म की तो यह धारणा है

कि समस्त सृष्टि शब्द से ही निकली है ईश्वर के संकल्प का आकार शब्द है और योगेश्वर ने सृष्टि रचना के पूर्व संकल्प एवं इच्छा की थी इसलिए सृष्टि शब्द से ही निकली है इस जल बाद में जीवन के कोलाहल में हमारे स्नायु में भी चढ़ता गई है जो जो हम वृद्ध होते जाते हैं और संसार की ठोकरें खाते जाते हैं जो हम में अधिकाधिक चढ़ता आती जाती है फलस्वरूप हमारे चारों ओर निरंतर हमारे ध्यान को आकर्षित करने वाली जो सारी घटनाएं होती रहती है

उनके प्रति उदासीन रहकर उनसे कोई शिक्षा ग्रहण नहीं कर पाते परंतु कभी-कभी ऐसा भी अवश्य होता है कि मनुष्य का स्वाभाविक भाव प्रबल हो उठता है और हम साधारण सांसारिक घटनाओं का रहस्य जानने का यत्न करने लगते हैं तथा उन पर आश्चर्यचकित हो जाते हैं इस प्रकार आश्चर्यचकित हो विज्ञान लाभ की पहली सीढ़ी है शब्द के दार्शनिक तथा धार्मिक महत्व को छोड़ देने पर भी हम देखते हैं कि हमारे जीवन में शब्द प्रति का विशेष स्थान है तुम से बातचीत कर रहा हूं तुम्हें स्पर्श नहीं कर रहा हूं पर मेरे शब्द द्वारा उत्पन्न वायु के स्पंदन तुम्हारे कान में जाकर तुम्हारे कर्मचारियों को स्पर्श करते हैं और उससे तुम्हारे मन में असर पैदा होता है

इसे तुम रोक नहीं सकते भला सोचो तो इससे अधिक आश्चर्यजनक बात और क्या हो सकती है एक मनुष्य दूसरे को बेवकूफ कह देता है और बस इतने से ही वह दूसरा मनुष्य उठ खड़ा होता है तथा अपनी मुट्ठी बांधकर उसकी नाक पर एक घुसा जमा देता है देखो तो शब्द में कितनी शक्ति है एक स्त्री भ्रूण ही है दूसरी स्त्री आ जाती है और उससे कुछ सांत्वना के शब्द कहती है प्रभाव यह होता है कि वह रोते विस्तृत बैठती है उसका दुख दूर हो जाता है

और मुस्कुराने भी लगती है एक शब्द में कितनी शक्ति है जिस प्रकार शब्द शक्ति का परिचय मिलता है उसी प्रकार साधारण जीवन में भी इस शक्ति के अंध में विशेष विचार और अनुसंधान न करते हुए भी हम रात दिन इस शक्ति को उपयोग में ला रहे हैं

हमारे कर्तव्य का अर्थ है दूसरे की सहायता करना संसार का भला करना अब प्रश्न यह उठता है कि हम संसार का भला क्यों करें वास्तव में बात यह है कि ऊपर से तो हम संसार का उपकार करते हैं परंतु असल में हम अपना ही उपकार करते हैं हमें सदैव संसार का उपकार करने की चेष्टा करनी चाहिए और कार्य करने में यही हमारा सर्वोच्च उद्देश्य होना चाहिए परंतु ध्यान पूर्वक देखा जाए तो प्रतीत होगा कि संसार को हमारी सहायता की बिल्कुल आवश्यकता नहीं है

संसार इसलिए नहीं बना कि हम अथवा तुम आकर इसकी सहायता करें एक बार मैंने एक उपदेश पड़ा था और वह इस प्रकार था यह सुंदर संसार बहुत अच्छा है क्योंकि इसमें हमें दूसरों की सहायता करने के लिए समय तथा अवसर मिलता है ऊपर से तो यह भाव सचमुच सुंदर है परंतु यह कहना कि संसार को हमारी सहायता की आवश्यकता है क्या खोर ईश्वर निंदा नहीं है

यह सच है कि संसार में दुख कष्ट बहुत है और सीधे लोगों की सहायता करना हमारे लिए सर्वश्रेष्ठ कार्य है परंतु आगे चलकर हम देखेंगे कि दूसरों की सहायता करने का अर्थ है अपनी सहायता करना मुझे स्मरण है एक बार जब मैं छोटा था तो मेरे पास कुछ सफेद चूहे थे भेजो एक छोटे से संदूक में रखे गए थे

और उनके लिए छूट दिए गए थे जब को पार करना चाहते तो वहीं के वहीं थे और बेचारे चूहे कभी भी बाहर नहीं निकल पाते बस यही हाल संसार का संसार के प्रति हमारी सहायता का है और केवल इतना ही होगा कि हमें नैतिक शिक्षा मिलती है संसार ना तो अच्छा है ना बुरा बात इतनी ही है

कि प्रत्येक मनुष्य अपने लिए अपना संसार बना लेता है यदि एक नेत्रहीन संसार के बारे में सोचने लगे तो उसके समक्ष यादव मुलायम याकड़ा प्रतीत होता है अथवा सिया भूषणम् सुखिया दुख की समस्त मात्र हैं हमने अपने जीवन में सैकड़ों बार अनुभव किया है नौजवान आशावादी होते हैं और निराशावादी तरुण के सामने अभी उसका सारा जीवन पड़ा है परंतु केवल यही शिकायत रहती है कि उसका समय निकल गया कितनी ही अपूर्ण जाएं उसके हृदय में मचलती रहती हैं

जिन्हें पूर्ण करने की शक्ति उसमें आज नहीं परंतु है दोनों ही मूड हमारी मानसिक अवस्था के अनुसार ही हमें यह संसार भला या बुरा प्रतीत होता है भला है बुरा अग्नि स्वयं ना अच्छी है या बुरी है तो हम कहते हैं कितनी सुंदर है परंतु जब हमारी उंगली जल जाती है तो उसे हम दोष देते हैं

परंतु फिर भी स्वयं जैसा हम इसका उपयोग करते हैं याची बन जाती है यही हाल इस संसार का भी है संसार स्वयंपूर्ण है पूर्ण होने का अर्थ यह है कि उसमें अपने सब प्रयोजनों को पूर्ण करने की क्षमता है हमें निश्चित जान लेना चाहिए कि हमारे बिना भी यह संसार बड़े मजे से चलता जाएगा हमें उसकी सहायता करने के लिए माथापच्ची करने की आवश्यकता नहीं परंतु फिर भी हमें सदैव परोपकार करते ही रहना चाहिए यदि हम सदैव यह ध्यान रखें कि दूसरों की सहायता करना एक सौभाग्य है तो परोपकार करने की इच्छा एक सर्वोत्तम प्रेरणा सकती है

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

How to use Chat GPT

What is a GPT-3 chat bot?

ChatGPT

2023 Virgo Yearly Horoscope

Recent Comments